First Aid Box In Hindi

First Aid Box In Hindi | फर्स्ट ऐड बॉक्स क्या है, इसके उपयोग व् फायदे

क्या आप लोग जानते हैं की First Aid Box क्या है और इसके फायदे क्या हैं? अगर नहीं तो हमारा लेख First Aid Box In Hindi आपके लिए काफी उपयोगी होने वाला है. इसमें आप जानेंगे की फर्स्ट ऐड बॉक्स (प्राथमिक चिकित्सा किट) कैसे बनाया जाता है, इसमें क्या क्या होता है और इसका इस्तेमाल (Use) कब और किसलिए किया जाता है.

यानी First Aid Box की पूरी जानकारी आपको मिलेगी. बचपन से ही हम प्राथमिक चिकित्सा बॉक्स का नाम सुनते आ रहे हैं, लेकिन कई लोगों को अभी तक इसकी पूरी समझ नहीं है, की आखिर ये है क्या? ग्रामीण क्षत्रों में हालाँकि इसके बारे में लोग कम ही जानते हैं.

लेकिन अगर आप शहरी लोगों को देखेंगे तो पायेंगे की वो लोग अपने घर में First Aid Box यानी प्राथमिक चिकित्सा किट जरूर रखते हैं. वक़्त आने पर उसका सही इस्तेमाल करना भी उन्हें आता है. वैसे भी अगर देखा जाए तो ये बहुत ही जरुरी चीज़ है.

हमें इसके बारे में भली भाँती पता होना ही चाहिए. साथ ही आपको मालुम होना चाहिए की First Aid Box में क्या क्या रहता है? मतलब इसमें कौन कौन सा सामान रखना चाहिए? यकीन मानिए किसी को समय पर मिला हुआ इलाज उसकी जान भी बचा सकता है. तो चलिए सबसे पहले जानते हैं की आखिर फर्स्ट ऐड बॉक्स क्या होता है?

First Aid Box क्या है – First Aid Box In Hindi

हम सब देखते ही रहते हैं की घर में या घर के बाहर कभी ना कभी हमें या हमारे बच्चों को चोट वगैरह लग ही जाती है. या फिर हल्का बुखार वगैरह हो, सिर दर्द हो, घाव हो गया हो या फिर शरीर में किसी भी तरह का छोटा मोटा रोग हो गया हो तो हम घर पर ही उनका निदान करने के लिए कुछ दवाएं और सामान रखते हैं.

या फिर कहीं कोई बड़ी दुर्घटना भी हो गयी हो तो, बड़ा घाव हो गया हो या कुछ भी दिक्कत हो तो मरीज़ को डॉक्टर तक पहुँचने से पहले हम जो घरेलू Treatment उसको देते हैं उसी को First Aid Box कहते हैं. कुछ लोग जानना चाहते हैं की First Aid Box कैसे बनाया जाता है और इसमें कौन कौन सी दवाएं (Medicines) और सामान रखा जाता है.

इसके लिए हम आपसे यही कहना चाहेंगे की आप छोटी मोटी बीमारियों की एक List बनाइये. सोचिये की छोटी मोटी कौन कौन सी स्वास्थ्य समस्या हमें खुद को या हमारे परिवार में किसी को भी हो सकती हैं.

First Aid Box क्या होता है, इसके फायदे क्या हैं पूरी जानकारी

अब आप उन दिक्कतों या रोगों के हिसाब से देखिये की आपको उनके उपचार के लिए कौन कौन सी Medicines और Equipments की जरूरत पड़ने वाली है. बस एक Box में वो सभी दवाएं और सामान इकठ्ठा करके रख लीजिये, हो गया आपका प्राथमिक चिकित्सा किट तैयार.

अब कभी भी मुसीबत के समय में ये आपके काम आ सकता है. First Aid Box क्या है और इसे कैसे बनाये आपको पता चल ही गया होगा. अगर फिर भी नहीं समझ आया तो चलिए हम आपको बता देते हैं की आपको अपने चिकित्सा बॉक्स में क्या क्या रखना जरूरी है.

How To Make First Aid Box In Hindi– नार्मल पट्टी, साबुन, सेफ्टी पिन, थर्मामीटर, छोटी कैंची, बैंडेज, एंटीसेप्टिक क्रीम, हाइड्रोजन पेरोक्साइड, रूई, चिमटी, साफ़ रूमाल, पेन किलर्स, एस्प्रिन, दस्ताने, एथिल अल्कोहल और एंटीबायोटिक ऑइंटमेंट वगैरह. ये कुछ ऐसे सामान थे जो आपके Box में होने ही होने चाहिए.

इसके अलावा आपको कुछ ऐसी Tablets और Cream वगैरह रखनी है जो Specific बीमारी या दर्द के लिए हों. जैसे Paracetamol और Cold के लिए Tablets वगैरह. इसके लिए आप एक मज़बूत सा Box चुनें या घर में रखने के लिए भी सही हो और आप Visit के दौरान भी इसको साथ रख सकें.

एक बात का हमेशा ध्यान रखें की घर के हर मेम्बर को ये जानकारी होनी चाहिए की Box कहाँ रखा है, बस बच्चों की पहुँच से दूर रखें. इसका ये फायदा होगा की कोई Member यदि घर में मौजूद नहीं होगा तो भी दुसरे किसी को First Aid Box की जानकारी होगी की वो कहाँ रखा है.

First Aid Box के फायदे और सावधानियां – First Aid Box Use And Benefits In Hindi

अगर आप प्राथमिक चिकित्सा किट बनाना चाहते हैं और अपने घर पर रखना चाहते हैं तो सबसे पहले ध्यान देने वाली बात ये है की आप उसमें रखी जाने वाली हर चीज़ और दवा के बारे में गहरी जानकारी लें. आपको बहुत ही अच्छी तरह से पता होना चाहिए की किस स्थिति में क्या करना है और कैसे करना है.

हो सके तो खुद के अलावा अपने परिवार में किसी एक बन्दे को और पूरी जानकारी दें. First Aid Box का इस्तेमाल करते वक़्त कुछ सावधानियां आपको बरतनी चाहिए. जैसे जो Medicine या दवा Expire हो चुकी हैं उन्हें बाहर फेंके. किसी को खून बह रहा है तो आपको पता होना चाहिए की पट्टी से उसे किस प्रकार रोकना है.

इसी प्रकार अगर किसी को घाव हुआ है तो सबसे पहले दस्ताने पहनें और एथिल अल्कोहल से उस घाव को धीरे धीरे साफ़ रूई से साफ़ करें. उसके बाद उस पर Cream या जरूरी Ointment लगाकर अच्छे से पट्टी करें. पट्टी करने के बाद आप उसे Tablet भी दे सकते हैं (यदि दर्द ज्यादा हो रहा हो तो).

ऐसी बहुत सी छोटी मोटी बातें हैं जिनका आपको ध्यान रखना है. किसी भी व्यक्ति को Treatment देते वक़्त सबसे पहले साबुन से अपने हाथ अच्छी तरह से धोएं. First Aid Box के फायदे ही फायदे हैं यदि इसका इस्तेमाल (Use) सही से किया जाए तो. जैसे-

– बच्चों को घर पर या बाहर खेलते वक़्त छोटी मोटी चोट लगने का खतरा हमेशा बना रहता है. ऐसे में First Aid Kit आपके बहुत काम आता है.

– First Aid Box किसी भी छोटी समस्या को बड़ी होने से रोकता है. अगर हम किसी भी बन्दे को जल्दी से जल्दी प्राथमिक चिकित्सा देते हैं तो रोग बड़ा होने से टल जाता है.

– छोटे मोटे दर्द हमें अक्सर होते रहते हैं जैसे, सिर दर्द, बदन दर्द या शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द. तो अगर प्राथमिक चिकित्सा बॉक्स हमारे पास उपलब्ध होगा तो हर बार Doctor के पास नहीं भागना पड़ेगा.

First Aid Box In Hindi

– First Aid Box हमारे लिए पैसे बचाने का काम करता है, आप इसे बिना बात का खर्च ना समझें. मान लीजिये आपको छोटा मोटा दर्द है और आप डॉक्टर के पास गए, तो वो आपसे उस छोटी सी बीमारी के लिए भी मिनिमम 50 से 100 रूपए चार्ज करते हैं. जबकि वही दर्द आप अपने फर्स्ट ऐड box के जरिय सिर्फ 5 रूपए में भी मिटा सकते हैं.

– अगर आप अपने परिवार के साथ यात्रा कर रहे हैं, घूमने जा रहे हैं तो First Aid Box आपके बहुत काम आ सकता है. यात्रा के दौरान ये आपको कई मुसीबतों से किस प्रकार बचा सकता है, इतना तो आप समझ ही सकते हैं.

– कई बार रात के समय में कोई हमारे या हमारे बच्चों के साथ ऐसी दुर्घटना हो जाती है जिसमें प्राथमिक चिकित्सा देना आवश्यक होता है. ऐसे में रात को डॉक्टर नहीं भी मिलता है तो आप प्राथमिक चिकित्सा से काम चला सकते हैं. ऐसे और भी बहुत से लाभ और फायदे हैं First Aid Box के.

प्राथमिक चिकित्सा के दौरान बरती जाने वाली कुछ और सावधानियां

(1) किसी को चोट लगी हो और खून बह रहा हो तो बातों में समय व्यर्थ करने से पहले रक्त के बहाव को रोकने का प्रयत्न करें.

(2) अगर किसी अंग की हड्डी टूट गयी है तो धीरे धीरे अंग को सीधा करें और तुरंत दर्द निवारक दवा दें.

(3) जो भी व्यक्ति First Aid देता है उसे हमेशा चोटिल या बीमार व्यक्ति को ऐसा Feel कराना चाहिए जैसे ज्यादा कुछ नहीं हुआ. मतलब मामला ज्यादा गंभीर नहीं है. इससे उसे सांत्वना मिलती है और अस्पताल तक पहुँचते हुए वो शांत रहता है.

(4) जहाँ तक संभव हो रोगी या चोटिल इंसान को ऐसी जगह लिटाकर या बिठाकर Treatment दें, जहाँ थोड़ी गर्माहट हो.

(5) जब तक आप किसी को First Aid दे रहे हैं तब तक किसी दुसरे व्यक्ति को Hostipal तक पहुँचने की या Doctor को घर बुलाने की व्यवस्था करने को बोल दें.

(6) अगर Hospital ज्यादा दूर है और मामला बहुत ही ज्यादा गंभीर है तो पहले रोगी अस्पताल ले जाने के लिए को गाड़ी में बिठाएं और रास्ते में Normal Treatment दें.

(7) जिस चीज़ से चोट लगी है जैसे कांच का टुकड़ा या लोहे का टुकड़ा वगैरह उसे शरीर से दूर करने का प्रयत्न करें.

(8) रोगी के सांस की लगातार जांच करते रहें. अगर आपको लगता है की मरीज बेहोश हो गया है और सांस भी बस हलकी हलकी ही चल रही है तो उसे अपने मुहं से सांस देने की प्रक्रिया शुरू करें.

इन्हें भी पढ़ें –

आप पढ़ रहे थे First Aid Box In Hindi – फर्स्ट ऐड बॉक्स क्या है और इसके फायदे (Benefits) क्या हैं और इसका इस्तेमाल (Use) कैसे करते हैं. आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी हमें Comment करके जरूर बताएं.

पोस्ट को दूसरों तक पहुंचाने के लिए Share जरूर करें. हमारे साथ जुड़ना चाहते हैं तो हमारे Facebook Page को Like करलें और हमें सब्सक्राइब करलें. धन्यवाद.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *